अंग्रेजी का तड़का…

बहुत समय पहले की बात है. हम लोग interview में व्यस्त थे. Panel पर एक प्रधानाचार्य, जिनका जिक्र मैं पहले भी कर चूका हूँ, भी थे. ये महाशय ऐसे मौके पर अखबार पढ़ते रहते थे. जब कुछ देर के लिए ब्रेक हुआ तब ये महाशय अचानक बोल उठे. ” क्या ज़माना आ गया है. कल सीतापुर के एक इंटर कॉलेज में कुछ गुंडे तो घुसे ही घुसे साथ में बैंड बाजा लेकर घुस गए. प्रिंसिपल की मौत हो गयी और कॉलेज बन्द करना पड़ा”. हम सभी लोगों ने उनकी तरफ देखा तो जो अखबार वो पढ़ रहे थे, उसे उन्होंने मुझे दे दिया और खबर की तरफ इशारा किया. अखबार अंग्रेजी का था. मैंने जोर से खबर पढ़ी. कुछ यूँ छपी थी. “A band of goondas entered the local Inter College and disrupted the classes. The College was closed by the Principal sine die.  मेरे पढते ही कमरे में उपस्थित सभी लोग एक ठहाका लगा कर हसें. हसीं का ठहाका इतना था की कमरे के बाहर खड़े लोग भी चकरा गए की माजरा क्या है. आप समझ सकते होंगे की हमारी क्या दशा हुई होगी.

आज इतने वर्षों बाद भी जब उस घटना की याद आती है तो मंद मंद मुस्कुरा लेता हूँ…

Advertisements

2 thoughts on “अंग्रेजी का तड़का…

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out /  Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  Change )

Connecting to %s